•  mumbaikidneyfoundation@gmail.com
  •  022-28016265

Blogs



All About Diabetes By Dr. Ashish Purohit



Diabetes (मधुमेह) एक बहुत ही आम और खतरनाक बिमारी है. भारत में हर पांच में से एक व्यक्ति को diabetes है.आज हम इसी बीमारी के बारें में detail में जानने की कोशिश करेंगे.

क्या होता है मधुमेह ?

मधुमेह एक ऐसी बीमारी हैं जिसमें रोगी के खून में ग्लूकोज़ की मात्रा (blood sugar level) आवश्यकता से अधिक हो जाती है.ऐसा दो वजहों से हो सकता है : या तो आपका शरीर पर्याप्त मात्रा में insulin नहीं produce कर रहा है या फिर आपके cells produce हो रही इंसुलिन पर प्रतिक्रिया नहीं कर रहे. इंसुलिन एक हारमोन है जो आपके शरीर में carbohydrate और fat के metabolism को कण्ट्रोल करता है.मेटाबोलिज्म से अर्थ है उस प्रक्रिया से जिसमे शरीर खाने को पचाता है ताकि शरीर को उर्जा मिल सके और उसका विकास हो सके.

हम जो खाना खाते हैं वो पेट में जाकर energy में बदलता है जिसे glucose कहते हैं. अब काम होता है इस energy/glucose को हमारे body में मौजूद लाखों cells के अन्दर पहुचाना, और ये काम तभी संभव है जब हमारे pancreas (अग्न्याशय) पर्याप्त मात्रा में insulin produce करें. बिना इंसुलिन के glucose cells में प्रवेश नहीं कर सकता. और तब हमारे cells ग्लूकोज़ को जला कर शरीर को उर्जा पहुंचाते हैं. जब यह प्रक्रिया सामान्य रूप से नहीं हो पाती तो व्यक्ति मधुमेह से ग्रस्त हो जाता है.

सामान्य स्वस्थ व्यक्ति में खाने के पहले blood में glucose का level 70 से 100 mg./dl रहता है। खाने के बाद यह level 120-140 mg/dl हो जाता है और फिर धीरे-धीरे कम होता चला जाता है। पर मधुमेह हो जाने पर यह level सामन्य नहीं हो पाता और extreme cases में 500 mg/dl से भी उपार चला जाता है.

मधुमेह के प्रकार:

1.) Type 1 diabetes: यह तब होता है जब आपकी body insulin बनाना बंद कर देती है. ऐसे में मरीज को बाहर से इंसुलिन देनी पड़ती है . इसे insulin-dependent diabetes mellitus, IDDM भी कहते हैं
2.) Type 2 diabetes: यह तब होता है जब आपके cells produce हो रही इंसुलिन पर प्रतिक्रिया नहीं करते. इसे non-insulin-dependent diabetes mellitus, NIDDM भी कहते हैं
3.) Gestational diabetes:ये ऐसी महिलाओं को होता है जो गर्भवती हों और उन्हें पहले कभी diabetes ना हुआ हो.ऐसा pregnancy के दौरान खून में ग्लूकोज़ की मात्रा (blood sugar level) आवश्यकता से अधिक हो जाने के कारण होती है।

Diabetes से सम्बंधित कुछ facts:

Type 2 Diabetes से ग्रस्त लोग स्वस्थ्य लोगों की अपेक्षा 5 – 10 साल पहले मर जाते हैं.
Type 2 Diabetes सबसे common form of Diabetes है.
Diabetes किसी भी age group के लोगों को हो सकता है, बच्चों को भी.
भारत में,इलाज ना करा पाने के कारण हर साल करीब 27000 बच्चे मधुमेह की वजह से मर जाते हैं.
भारत में 5 में से 1 व्यक्ति diabetes से प्रभावित है.
अगर इसे control ना किया जाये तो ये heart-attack,blindness, stroke (आघात), या kidney failure में result कर सकता है.
स्वस्थ खा कर और physical activity को बढ़ा कर टाइप २ मधुमेह को 80 % तक रोका जा सकता है.
यह एक अनुवांशिक बिमारी है. यानि यदि परिवार में पहले किसी को ये बिमारी रही हो तो आपको भी हो सकती है.

Diabetes हो जाने पर क्या करें:

नियमित रूप से blood sugar की जांच कराते रहे.
परहेज करना बहुत ही आवशयक है, असावधानी बाद में घातक हो सकती है. बाद में blindness, amputation या dialysis का सामना करने से कहीं आसान होगा परहेज करना.
दवाओं के सेवन को हलके में ना लें , और डॉक्टर के बताये हुए समय पर दवा अवश्य लें.
स्वस्थ खाएं और active रहे. व्यायाम करके इसे काफी हद तक control किया जा सकता है.
संभव हो तो खाना खाने के लिए अपने जैसा ही साथी चुने, इससे अपने जीभ को control करना आसान होगा.
पर्याप्त मात्रा में नीद लें.
सुबह या शाम को टहलने की आदत डालें.

—डॉ आशीष पुरोहित
  Lancelot Kidney & GI centre,D1/D2,Bharat baugh,Lancelot compound, SV Road Borivali West Mumbai 400092
Copyrights © Mumbai Kidney Foundation | Powered by: SkyIndya